indian cinema heritage foundation

Sampoorna Ramayan (1971)

  • LanguageHindi
Share
174 views

सत्य और धर्म की रक्षा एवं स्थापना के लिये भगवान राम का अवतार हुआ। कष्ट में अडिग सुख लोभ प्रलोभन से निर्लिस पुरूषोत्तम राम मानव रूप में अवतरित हुये ।

रामायण का अर्थ है राम का मार्ग। सर्वसाधारण के लिये आदर्श मार्ग। रामायण का मार्ग परमार्थ प्राप्त करने का मार्ग है ।

मानव समाज एवं परिवार के लिये राम आदर्श पुत्र, आदर्श भाई, आदर्श पति हैं राम राज्य आदर्श राज्य था जिसकी स्थापना का हम सपना देखते हैं ।

युग युगान्तर से राम ही आदर्श और पुरूषोत्तम पुरूष हैं ।

मानव समाज के कल्याण के लिये महर्षि वाल्मीकि ने अति सुन्दर, सौम्य, सुखकर और सुमधुर रामायण की रचना की ।

राम नाम पारसमणि के समान है, जिसके स्पर्श मात्र से मानव निर्मल हो मोक्ष प्राप्त करता है ।

राज्य समस्या, परिवार समस्या, परस्त्री हरण का परिणाम तथा समाज एवं परिवार की अनेक समस्याओं का समाधान व चित्रण रामायण में प्राप्त होता है ।

राम नाम मधुर है। राम नाम सर्व शक्तिवान है। महर्षि वशिष्ठ द्वारा जिसका नामकरण हुआ, उस राम ने मर्यादा के अनुकूल पुरूषोत्तम राम नाम सिद्ध किया ।

’रा’ शिव शक्ति का और ’म’ विष्णु शक्ति का द्योतक है। एक बार राम का नाम लेने से सहस्त्र गुणा शिव-विष्णु भक्ति का फल प्राप्त होता है ।

महर्षि वाल्मीकि ने राम की दिव्य सुन्दर गाथा, श्रीराम जन्म से राम के राज्याभिषेक तक सम्पूर्ण रूप में, सर्वांग सुन्दर, संगीत मय, सर्वांग रंजनपूर्ण, चरित का चित्रण किया- वही महाकाव्य है श्रीरामायण ।

(From the official press booklet)